गोपारचन

हमारे बारे में

इस वर्चुअल स्पेस पर हम विमर्शिया नहीं रहे बल्कि प्रयास कर रहे हैं कि व्यंग के माध्यम से देश काल  की चिंताओं को हिंदी ब्लाग जगत में रखा जाए साथ ही व्यंग लेखन को बढ़ावा दिया जाए।  इस ब्लाग का मकसद किसी को व्यक्तिगत रूप से ठेस पहुंचाना नही हैं,  प्रस्तुत सामग्रियां यह सोचकर लगाई गई हैं कि किसी को कोई आपत्ति नहीं होगी अगर किसी भी सज्जन को आपत्ति हो तो इसकी सूचना हमे दें।  इसमें तमाम लेख अतिथि लेखकों के हैं, जरूरी नहीं कि माडरेटर, प्रस्तुत ब्लाग उससे सहमत हो। हमारा मानना है कि ज्ञान की परंपरा को आपसी सहयोग के माध्यम से आगे बढ़ाया जा सकता है। आप हमें सहयोग प्रदान करें।

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 1 other follower

पुरालेख

Top Clicks

  • कोई नही

ब्लाग स्थिति

  • 1,409 hits
अक्टूबर 2017
सोम मंगल बुध गुरु शुक्र शनि रवि
« फरवरी    
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
3031  

संग्रहालय

%d bloggers like this: